---------Sponsered Ads---------

मुख्यमंत्री समेकित चौर विकास योजना 2022: ऑनलाइन आवेदन, लाभ, पात्रता

---------Sponsered Ads---------

सारांश : मुख्यमंत्री समेकित चौर विकास योजना  2022 ऑनलाइन आवेदन करें – MMSCVY ऑनलाइन पंजीकरण (Mukhyamantri Samekit Chaur Vikas Yojana Online Registration), आवेदन पत्र पीडीएफ डाउनलोड (Application Form PDF Download), पात्रता (Eligibility), लाभार्थी सूची, भुगतान / राशि की स्थिति, सुविधाएँ (Features), उद्देश्य (Purpose), लाभ (Benefits) और ऑफिसियल वेबसाइट fisheries.bihar.gov.in पर ऑनलाइन आवेदन की स्थिति की जाँच करें ।

मुख्यमंत्री समेकित चौर विकास योजना 2022

बिहार सरकार द्वारा अपने राज्य में मत्स्य पालन को बढ़ावा देने के लिए मुख्यमंत्री समेकित चौर विकास योजना को आरंभ किया गया हैं।  Mukhyamantri Samekit Chaur Vikas Yojana के माध्यम से किसानों को मत्स्य पालन करने के लिए तालाब निर्माण करवाने पर 70 फ़ीसदी तक अनुदान दिया जाएगा इसका उद्देश्य ग्रामीणों की आर्थिक स्थिति सुधारना और बेरोजगारों को रोजगार उपलब्ध कराना है। इसको लेकर लाभुकों को आवेदन जमा करने को कहा गया है। मुख्यमंत्री समेकित चौर विकास योजना से चौर जल क्षेत्र भूमि में तालाब निर्माण होगा।

सभी आवेदक जो ऑनलाइन आवेदन करने के इच्छुक हैं, फिर आधिकारिक अधिसूचना डाउनलोड करें और सभी पात्रता मानदंड और आवेदन प्रक्रिया को ध्यान से पढ़ें। हम “ मुख्यमंत्री समेकित चौर विकास योजना 2022 ” के बारे में संक्षिप्त जानकारी प्रदान करेंगे जैसे योजना लाभ, पात्रता मानदंड, योजना की मुख्य विशेषताएं, आवेदन की स्थिति, आवेदन प्रक्रिया और बहुत कुछ।

Table of Content

---------Sponsered Searches---------

मुख्यमंत्री समेकित चौर विकास योजना क्‍या है?

बिहार वासियों के मछली की 7.33 लाख टन की जरूरत को पूरा करने के लिये राज्य सरकार ने नई योजना की शुरुआत की है। इसके तहत छह लाख 91 हजार हेक्टेयर के चौर क्षेत्र (आर्द्र भूमि) को मछली पालन के लिये उपयुक्त बनाने के प्रयास में सरकार जुट गयी है। मुख्यमंत्री समेकित चौर विकास योजना के तहत राज्य में यह कार्य किया जायेगा। इस पर किसानों को 70 फीसदी अनुदान मत्स्य विभाग देगा। बताया गया है कि गांवों की बेकार या बंजर जमीन पर तालाब बनाने को लेकर सरकार ने कदम उठाया है। मत्स्य पालन के साथ-साथ कृषि, बागवानी व कृषि वानिकी को भी विकसित किया जाएगा। सरकार तालाबों के निर्माण पर अनुदान देने के साथ-साथ कृषि, बागवानी व कृषि वानिकी पर अलग से अनुदान देगी।

Mukhyamantri Samekit Chaur Vikas Yojana के द्वारा से बड़े पैमाने पर रोजगार सर्जन होगा। अभी फिलहाल पशु एवं मत्स्य संसाधन विभाग ने इस योजना को पायलट के रूप में सीवान सहित छह जिलों में शुरू किया है। 50 हेक्टेयर में तालाब निर्माण को लेकर विभाग ने 2.48 करोड़ रुपए अनुदान देने का लक्ष्य निर्धारण किया है। चौर विकास के लिए तीन तरहां का मॉडल तैयार किया गया है।  यह प्रोजेक्ट सीवान सहित अन्य जिलों में मॉडल के तौर पर किया जाएगा। मत्स्य विभाग द्वारा यह अनुदान दिया जाएगा। सरकार ने प्रदेश के चौर जल क्षेत्र भूमि में पड़ी बेकार या बंजर भूमि पर तालाब बनाने के लिए इस प्रोजेक्ट की पहल की है। 

बिहार में मछली उत्पादन पर एक नजर

  • वार्षिक मांग – 7.33 लाख टन
  • वार्षिक उत्पादन – 6.83 लाख टन
  • मछली का आयात – 0.40 लाख टन
  • मछली का निर्यात – 0.33 लाख टन(स्रोत= सरकार की 2022-23 की वार्षिक रिपोर्ट )

Mukhyamantri Samekit Chaur Vikas Yojana 2022 – Overview

योजना का नाममुख्यमंत्री समेकित चौर विकास योजना Mukhyamantri Samekit Chaur Vikas Yojana (MMSCVY)
शुरू की गई बिहार सरकार द्वारा
लाभार्थीबिहार के लोग 
अनुदान70% तक
योजना का उद्देश्यमछली पालन को बढ़ावा देने के लिए निजी चौर जल क्षेत्रों में तालाब निर्माण हेतु अनुदान प्रदान करना। 
साल2022
योजना के तहतराज्य सरकार
राज्य का नामबिहार
पोस्ट श्रेणीयोजना/Yojana
आधिकारिक वेबसाइटfisheries.bihar.gov.in

Mukhyamantri Samekit Chaur Vikas Yojana के ​​लिए आवश्यक दस्तावेज़

ऑनलाइन आवेदन करने के लिए महत्वपूर्ण दस्तावेज :

  • आधार कार्ड
  • जाति प्रमाण पत्र
  • पैन कार्ड
  • जीएसटी
  • भूस्वामित्व प्रमाण पत्र
  • लीज एकरारनामा
  • समूह में कार्य करने की सहमति
  • व्यक्तिगत /समूह लाभुको के द्वारा स्व-अभिप्रमाणित दो पासपोर्ट साइज़ फोटो
  • उद्यमी लाभुको के द्वारा स्व अभिप्रमाणित निबंधन प्रमाण पत्र
  • विगत तीन वर्षो का अंकेक्षण एवं आयकर रिटर्न

Mukhyamantri Samekit Chaur Vikas Yojana पात्रता मानदंड

लाभार्थी पात्रता मानदंड:

  • आवेदकों को बिहार का स्थाई निवासी होना अनिवार्य है।
  • व्यक्तिगत/ समूह में आवेदन किया जा सकता है।
  • समूह में न्यूनतम 5 सदस्य होने जरूरी हैं।

मुख्यमंत्री समेकित चौर विकास योजना के उद्देश्य

इस योजना को आरंभ करने का प्रमुख उद्देश्य है कि राज्य के चौर अधिकता वाले जिलों में मछली पालन को बढ़ावा देने के लिए लाभार्थियों को तालाब निर्माण करने पर अनुदान देना। ताकि राज्य में बड़े पैमाने पर मछली पालन का रोजगार सर्जन हो और दूसरे प्रांतों से आने वाली मछली की आयात कम हो। यह योजना निजी चौर जल क्षेत्र के ग्रामीणों की आर्थिक स्थिति सुधारने और बेरोजगारों को रोजगार प्रदान करेंगी। मुख्यमंत्री समेकित चौर विकास योजना के तहत बड़े पैमाने पर मत्स्य पालन के साथ-साथ कृषि, बागवानी व कृषि वानिकी को विकसित किया जाएगा। इससे बेकार पड़े जल क्षेत्र में मत्स्य पालन होगा।

Samekit Chaur Vikas Yojana 2022 के तहत प्रदान किए जाने वाला लाभ

  • इस योजना के तहत परंपरागत मछुआरों को प्राथमिकता दी जाएगी।
  • 50 हेक्टेयर में तालाब निर्माण को लेकर विभाग ने 2.48 करोड़ रुपये अनुदान देने का लक्ष्य निर्धारित किया है।
  • योजना के तहत चयनित लाभार्थियों को चौर भूमि के समेकित विकास के लिए तीन मॉडल तैयार किए गए हैं।
  • जिनमें एक हेक्टेयर में दो तलाब, चार तालाब और एक तालाब का निर्माण एवं भूमि विकास की योजना बनाई गई है।
  • इस योजना के तहत मत्स्य पालन करने के लिए तालाब निर्माण पर लाभार्थी को 70% तक अनुदान की राशि दी जाएगी।
  • मुख्यमंत्री समेकित चौर विकास योजना 2022 के तहत 1 हेक्टेयर रकवा में दो तालाब बनाने में 8.80 लाख/हेक्टेयर, एक हेक्टेयर रकवा में चार तालाब बनाने में 7.32 लाख/हेक्टेयर और एक हेक्टेयर रकवा में एक तालाब का निर्माण और भूमि विकास में 9.69 लाख/हेक्टेयर की लागत आएगी।
  • इसमें सरकार अन्य वर्ग के लाभार्थियों को 50% का अनुदान देगी। अत्यंत पिछड़ा वर्ग/अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति के लिए 70% और उद्यमी आधारित 30% अनुदान दिया जाएगा।

मुख्यमंत्री समेकित चौर विकास योजना के ​​लिए आवेदन कैसे करें

मुख्यमंत्री समेकित चौर विकास योजना के तहत विभाग के माध्यम से परंपरागत मछुआरों को प्राथमिकता दी जाएगी। इस स्कीम के तहत निजी क्षेत्र में चौर का समेकित विकास किया जाएगा। स्कीम अंतर्गत चयनित लाभुक को चौर भूमि के समेकित विकास हेतू तीन मॉडल तैयार किया गया है।

सभी पात्र आवेदक जो इस योजना में आवेदन करना चाहते हैं, तो सभी निर्देशों को ध्यान से पढ़ें और ऑनलाइन आवेदन पत्र को लागू करने के लिए नीचे दिए गए चरणों का पालन करें:

Mukhyamantri Samekit Chaur Vikas Yojana ऑनलाइन आवेदन पत्र को लागू करने की प्रक्रिया

चरण 1- मुख्यमंत्री समेकित चौर विकास योजना  की आधिकारिक वेबसाइट यानी fisheries.bihar.gov.in पर जाएं।

चरण 2- होमपेज पर, आपको मत्स्य योजनाओं हेतु आवेदन के विकल्प पर क्लिक करना है।

चरण 3- आवेदन पत्र पृष्ठ स्क्रीन पर प्रदर्शित होगा।

चरण 4- यहां पर आपको दो विकल्प मत्स्य योजनाओं में आवेदन हेतु पंजीकरण करें और दूसरा पहले से पंजीकृत है तो लॉगिन करें के विकल्प दिखाई देंगे।

चरण 5- यदि आप पंजीकृत नहीं है तो आप मत्स्य योजनाओं में आवेदन हेतु पंजीकरण करेंके लिंक पर क्लिक करके अपना पंजीकरण कर ले और फिर जाकर पहले से पंजीकृत है तो लॉगिन करें के विकल्प पर क्लिक कर दें।

चरण 5- अब आप अपना रजिस्ट्रेशन एवं पासवर्ड नंबर दर्ज करके लॉगइन के विकल्प पर क्लिक कर दे।

  • इसके बाद आप इस योजना का लाभ लेने के लिए आवेदन कर सकते हैं।

हेल्पलाइन नंबर और संपर्क पता

  • Directorate of Fisheries
    Animal and Fisheries Resources Department Govt. Of Bihar 2nd Floor, Vikas Bhawan(New Secretariat), Bailey Road, Patna 800015
    Telephone No : 0612 – 2215175 , Website: www.ahd.bih.nic.in,fisheries.ahdbihar.in
  • Project Management Unit(P.M.U), Directorate of Fisheries
    Toll Free Number – 1800 3456 185
    Landline Number – 2230200,01
    E-Mail ID – pmufisherieshbihar[at]gmail[dot]com

महत्वपूर्ण तिथियाँ

EventDates
ऑनलाइन आवेदन करने की प्रारंभिक तिथि9 सितंबर सन 2022
ऑनलाइन आवेदन करने की अंतिम तिथि18 अगस्त सन 2022

महत्वपूर्ण लिंक

EventLinks
ऑनलाइन आवेदनपंजीकरण लॉग इन करें
मुख्यमंत्री समेकित चौर विकास योजना लाभार्थी सूचीयहां क्लिक करें
मुख्यमंत्री समेकित चौर विकास योजना आधिकारिक पोर्टलआधिकारिक वेबसाइट

Leave a Comment

---------Sponsered Ads---------