---------Sponsered Ads---------

हरियाणा फसल विविधीकरण योजना 2022: ऑनलाइन आवेदन, लाभ, फसलों की सूची

---------Sponsered Ads---------

सारांश : हरियाणा फसल विविधीकरण योजना 2022 ऑनलाइन आवेदन करें – Haryana Fasal Vividhikaran Yojana ऑनलाइन पंजीकरण, आवेदन पत्र पीडीएफ डाउनलोड, पात्रता, लाभार्थी सूची, भुगतान / राशि की स्थिति, सुविधाएँ, लाभ और ऑफिसियल वेबसाइट agriharyana.gov.in पर ऑनलाइन आवेदन की स्थिति की जाँच करें ।

हरियाणा फसल विविधीकरण योजना 2022 @agriharyana.gov.in

हरियाणा सरकार ने अपने राज्य में फसल विविधीकरण को बढ़ावा देने और किसानों की आय में बढ़ोतरी करने के लिए फसल विविधीकरण योजना को शुरू किया था। राष्ट्रीय कृषि विकास योजना (Haryana Crop Diversification Scheme) के तहत चलाई जा रही फसल विविधिकरण योजना का किसान फायदा उठा सकते हैं। धान की फसल छोड़कर कम पानी व कम लागत वाली मोटे अनाज की वैकल्पिक फसल (मक्का) उगाने पर प्रदेश सरकार की ओर से 2400 रुपए प्रति एकड़ का अनुदान दिया जाएगा। जबकि दलहन फसलों के लिए 3600 रुपए प्रति एकड़ का अनुदान दिया जाएगा. इनमें मूंग, उड़द व अरहर जैसी फसलें शामिल की जाएंगी।

राज्य के एक किसान को 5 एकड़ तक ही यह प्रोत्साहन राशि प्रदान की जाती है।  प्रदेश सरकार का सन् 2022 में यह लक्ष्य है कि इस योजना को 10 जिलों में 50 हजार एकड़ में अपनाया जाएगा। फसल विविधीकरण योजना के तहत भी पैसा दिया जा रहा है. इसके तहत भी धान की फसल छोड़कर कम पानी व कम लागत वाली वैकल्पिक फसलों को उगाने पर पैसा दिया जाएगा। खासतौर पर मक्का और दलहन फसलों को उगाने पर। किसान 31 अगस्त तक विभाग की वेबसाइट पर ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं।

सभी आवेदक जो ऑनलाइन आवेदन करने के इच्छुक हैं, फिर आधिकारिक अधिसूचना डाउनलोड करें और सभी पात्रता मानदंड और आवेदन प्रक्रिया को ध्यान से पढ़ें। हम “ हरियाणा फसल विविधीकरण योजना 2022 ” के बारे में संक्षिप्त जानकारी प्रदान करेंगे जैसे योजना लाभ, पात्रता मानदंड, योजना की मुख्य विशेषताएं, आवेदन की स्थिति, आवेदन प्रक्रिया और बहुत कुछ।

---------Sponsered Searches---------

Table of Content

हरियाणा फसल विविधीकरण योजना 2022: ऑनलाइन आवेदन पत्र

Haryana Crop Diversification Scheme Online Registration, Application Form PDF Download, Eligibility, Features, Benefits

हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल खट्टर जी ने वर्ष 2020 में राज्य में गिरते जलस्तर को देखते हुए Haryana Crop Diversification Scheme लागू की थी। इस योजना के तहत धान की फसल की जगह अन्य वैकल्पिक फसलें जैसे-कपास, मक्का, दलहन, जवार, अरंडी, मूंगफली, सब्जी एवं फलों की खेती  करने पर ₹7000 प्रति एकड़ के हिसाब से प्रोत्साहन राशि प्रदान की जाती है। अगर आपने पिछले साल तक किसी खेत में धान उगाया था और इस साल उसे खाली छोड़ रहे हैं तो भी रजिस्ट्रेशन करवाकर आप 7000 रुपये प्रति एकड़ का फायदा उठा सकते हैं। बताया गया है कि यह योजना सिर्फ गैर बासमती धान के लिए लागू होगी। मक्का और दलहन फसलों को उगाने पर अलग से भी मिलेगी 3600 प्रति एकड़ तक की प्रोत्साहन राशि. फसल विविधीकरण योजना का फायदा उठाने के लिए 31 अगस्त तक होगा आवेदन।

Haryana Crop Diversification Scheme 2022 के तहत आवेदन की अंतिम तिथि

राज्य के जो किसान हरियाणा फसल विविधीकरण योजना 2022 के तहत अपना आवेदन करना चाहते हैं तो वह 31 अगस्त सन 2022 से पहले अपना ऑनलाइन आवेदन प्रस्तुत कर दें। क्योंकि राज्य सरकार द्वारा इस योजना के तहत आवेदन करने की अंतिम तिथि 31 अगस्त सन् 2022 निर्धारित की गई है। 

Haryana Fasal Vividhikaran Yojana 2022 – Overview

योजना का नामहरियाणा फसल विविधीकरण योजना (Haryana Fasal Vivadhikaran Yojana)
भाषा मेंHaryana Crop Diversification Scheme
शुरू की गई मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर जी के द्वारा
लाभार्थीराज्य के किसान 
प्रमुख लाभ₹7000 प्रति एकड़ के हिसाब से प्रोत्साहन राशि
योजना का उद्देश्यभूजल स्तर को नियंत्रित करना एवं फसल विविधीकरण को बढ़ावा देना
योजना के तहतराज्य सरकार
राज्य का नामहरियाणा
पोस्ट श्रेणीयोजना/Yojana
आधिकारिक वेबसाइटagriharyana.gov.in

हरियाणा फसल विविधीकरण योजना के ​​लिए आवश्यक दस्तावेज़

ऑनलाइन आवेदन करने के लिए महत्वपूर्ण दस्तावेज :

  • आधार कार्ड
  •  निवास प्रमाण पत्र
  • कृषि योग्य भूमि के दस्तावेज
  • पहचान पत्र
  • मोबाइल नंबर
  • बैंक खाता विवरण
  • पासपोर्ट साइज फोटोग्राफ

हरियाणा फसल विविधीकरण योजना पात्रता

लाभार्थी पात्रता मानदंड:

  • आवेदक किसान को हरियाणा राज्य का निवासी होना चाहिए।
  • किसान को अपने पिछले वर्ष की खेती वाले धान के कम से कम 50% हिस्से में विविध फसलों की बुवाई करनी अनिवार्य है।
  • आवेदक किसान का बैंक खाता होना चाहिए जो आधार कार्ड से लिंक हो।

हरियाणा फसल विविधीकरण योजना 2022 के उद्देश्य

धान की खेती न सिर्फ किसानों के लिए घाटे का सौदा साबित हो रही है बल्कि यह पर्यावरण के लिए भी ठीक नहीं है. क्योंकि एक किलो चावल पैदा करने में औसतन 3000 लीटर पानी की जरूरत पड़ती है। हरियाणा भी इसी तरह के राज्यों में शामिल जहां पानी लगातार पाताल में जा रहा है। योजना के लागू होने से न केवल किसानों की आय बढ़ेगी, बल्कि पोषण संबंधी आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए प्राकृतिक संसाधनों का संरक्षण भी होगा। ऐसे में यहां धान की खेती छोड़ने वालों को 7000 रुपये प्रति एकड़ की प्रोत्साहन राशि दी जा रही है।

Haryana Crop Diversification Scheme के लाभ एवं विशेषताएं

  • हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर जी के द्वारा अपने राज्य के गिरते हुए जल स्तर को नियंत्रित करने के लिए फसल विविधीकरण योजना हरियाणा को आरंभ किया गया है।
  • हरियाणा फसल विविधीकरण योजना 2022 की शुरुआत हरियाणा राज्य सरकार के द्वारा मेरा पानी निवास योजना के तहत लागू की गई है।
  • राज्य सरकार ने वर्ष 2020 में इस योजना को शुरू किया था जिसके प्रदेश में लगभग 1 लाख एकड़ जमीन पर धान की फसल की जगह वैकल्पिक फसलों की बुवाई कर विविधीकरण किया गया था।
  • इस योजना के तहत धान की फसल की जगह अन्य वैकल्पिक फसलें जैसे-कपास, मक्का, दलहन, जवार, अरंडी, मूंगफली, सब्जी एवं फलों की खेती  करने पर ₹7000 प्रति एकड़ के हिसाब से प्रोत्साहन राशि प्रदान की जाती है।
  • हरियाणा सरकार ने वर्ष 2021 में Haryana Crop Diversification Scheme के अंतर्गत 2 लाख एकड़ भूमि में विविध प्रकार की फसलों की बुवाई का लक्ष्य निर्धारित किया है।
  • इसके अलावा मक्का की खेती करने पर 2400 रुपए प्रति एकड़ और दलहन की खेती करने पर ₹3600 प्रति एकड़ का अनुदान भी प्रदान किया जाता है।
  • फसल विविधीकरण योजना अंबाला, फतेहाबाद, जींद, करनाल, कैथल, कुरुक्षेत्र, पानीपत, सोनीपत, सिरसा और यमुनानगर में लागू की जाएगी, जहां 1.25 लाख एकड़ से अधिक में धान उगाया जाता है।
  • लेकिन यह प्रोत्साहन और अनुदान राशि सरकार द्वारा केवल 5 एकड़ तक ही दी जाती है।
  • हरियाणा सरकार का लक्ष्य है कि राज्य में सन् 2022 में इस योजना को 10 जिलों में 50 हजार एकड़ जमीन पर अपनाया जाएगा।
  • भौतिक सत्यापन के बाद डीबीटी के माध्यम से किसानों के बैंक खाते में प्रोत्साहन राशि हस्तांतरित की जाएगी।
  • योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए www.agriharyana.gov.in पर पंजीकरण अनिवार्य है।

हरियाणा फसल विविधीकरण योजना के ​​लिए आवेदन कैसे करें

योजना का लाभ लेने के इच्छुक किसान कृषि विभाग की वेबसाइट पर अपना रजिस्ट्रेशन करवाना होगा. रजिस्ट्रेशन की आखिरी तारीख 31 अगस्त 2022 तय की गई है। यानी इसके लिए अब आपके पास सिर्फ 25 दिन का वक्त है। एक किसान को 5 एकड़ तक का ही लाभ दिया जाएगा। अप्लाई करने के बाद किसान के दस्तावेजों का सत्यापन होगा। इसके बाद प्रोत्साहन की रकम सीधे किसान के बैंक अकाउंट में ट्रांसफर कर दी जाएगी।

सभी पात्र आवेदक जो इस योजना में आवेदन करना चाहते हैं, तो सभी निर्देशों को ध्यान से पढ़ें और ऑनलाइन आवेदन पत्र को लागू करने के लिए नीचे दिए गए चरणों का पालन करें:

ऑनलाइन हरियाणा फसल विविधीकरण योजना आवेदन पत्र को लागू करने की प्रक्रिया

  • सबसे पहले आपको कृषि एवं किसान कल्याण विभाग हरियाणा के अधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा। इसके बाद आपके सामने वेबसाइट का होम पेज खुल जाएगा।
  • वेबसाइट के होम पेज पर आपको फसल विविधीकरण के लिए पंजीकरण करेंगे विकल्प पर क्लिक कर देना है। इसके बाद आपके सामने एक नया पेज खुल जाएगा|
  • इस पेज पर आपको एक रजिस्ट्रेशन फॉर्म दिखाई देगा। इस फॉर्म में अपना आधार नंबर एवं अन्य विवरण भरें इसके बाद फॉर्म के अगले भाग में किसान की सभी जानकारी भरें।
  • अब फॉर्म के अगले भाग में चाहिए उपलब्ध भूमि की जानकारी का विवरण भरे। आप भूमि के विवरण के बाद फसल के विवरण की जानकारी दें और इस फॉर्म को सबमिट कर दे।
  • फॉर्म को सबमिट करते  ही आपके Haryana Crop Diversification Scheme Registration की प्रक्रिया पूरी हो जाएगी।

हेल्पलाइन नंबर और संपर्क पता

DEPARTMENT OF AGRICULTURE AND FARMERS WELFARE, HARYANA
Krishi Bhawan, Sector 21, Budanpur, Panchkula-134117 (Haryana)
0172-2571553, 2571544
0172-2563242
agriharyana2009[at]gmail[dot]com
agriharyana[at]nic[dot]in

महत्वपूर्ण तिथियाँ

EventDates
ऑनलाइन आवेदन करने की प्रारंभिक तिथि
ऑनलाइन आवेदन करने की अंतिम तिथि31 अगस्त 2022

महत्वपूर्ण लिंक

EventLink
ऑनलाइन आवेदनपंजीकरण | लॉग इन करें
हरियाणा फसल विविधीकरण योजना लाभार्थी की स्थितियहां क्लिक करें
अधिसूचनायहां क्लिक करें
हरियाणा फसल विविधीकरण योजना आधिकारिक पोर्टलआधिकारिक वेबसाइट

Leave a Comment

---------Sponsered Ads---------